बुजुर्ग माता-पिता जिनकी संतानों ने उन्हें छोड़ दिया उनकी सेवा कर बेटों की तरह फर्ज अदा कर रही भगवती

- Advertisement -
- Advertisement -

राष्ट्र आजकल प्रतिनिधि छतरपुर। ऐसे बुजुर्ग माता-पिता जिनकी संतानों ने उन्हें छोड़ दिया और बेसहारा कर दिया ऐसे बुजुर्गों को सहारा देने का काम छतरपुर जिले के घुवारा कस्बे की भगवती ने किया। वह तेरह साल से बुजुर्गों की सेवा कर बेटों की तरह फर्ज अदा कर रही हैं। पुरुष प्रधान समाज में स्त्री होने के बावजूद वर्षों से असहाय बुजुर्गों के लिए भगवती पालनहार हैं जो बुजुर्गों की अपने मां पिता की तरह सेवा करती हैं और उनके देहांत के बाद भी परिवार की तरह अंतिम संस्कार का कर्तव्य निभाती हैं। बीते 13 वर्षों में 80 से ज्यादा बुजुर्गों का अंतिम संस्कार भगवती ने बेटों की तरह किया है। भगवती छतरपुर जिले के घुवारा नगर में तहसील के पास मां भगवती वृद्धाश्रम चलाती हैं। जहां वर्तमान में करीब 20 बुजुर्ग निवासरत हैं यहां अधिकांश ऐसे बुजुर्ग हैं जिन्हें परिवार ने बेसहारा कर घरों से निकालकर सड़कों पर छोड़ दिया। ऐसे बेसहारों का सहारा बनकर भगवती लंबे समय से सेवा कर रही हैं, जब आश्रम में बुजुर्गों की सेवा होती दिखी तो जनसहयोग भी आने लगा। अब जनसहयोग से यह आश्रम संचालित हो रहा है। जहां भगवती की छह लोगों की टीम बुजुर्गों की सेवा में जुटी रहती है। यही नहीं सेवा के साथ ऐसे बुजुर्ग जो परिवारों से बिछड़ गए थे या दिमागी हालत खराब होने से घर से दूर हो गए ऐसे 50 से ज्यादा भूले भटके बुजुर्गों को परिवार से मिला चुकी हैं। भगवती कहती हैं कि संतानों के होने के बाद भी हमारे बुजुर्ग सड़कों पर रोटी मांग रहे हैं। जब ऐसा दृश्य दिखता था तो मन टूट जाता था। धन दौलत पर कब्जा कर बुजुर्ग माता पिता को सड़कों पर संतान छोड़ देती है। ऐसे बुजुर्गों को आश्रय देने के लिए मां भगवती आश्रम खोलने का बन बना लिया था। आज तेरह साल हो गए हैं। वह बुजुर्गों के बीच एक बेटा और बेटी दोनों का फर्ज अदा कर रही हैं। आश्रम में रहने वाले बुजुर्गों की सेवा व्यवस्था के लिए पहले सामाजिक कल्याण विभाग से प्रति व्यक्ति करीब 900 रुपये दिया जाता था। लेकिन बीते करीब एक साल से यह राशि भी मिलनी बंद हो गई है।

- Advertisement -

Latest news

क्रिकेटर शशांक सिंह का कोलार में स्वागत: आईपीएल मैंच के अनुभव किए साझा, बच्चों को दिया ऑटोग्राफ

राष्ट्र आजकाल/ मुकेश बैरागी /जिला ब्यूरो भोपाल भोपाल के रहने वाले क्रिकेटर शशांक सिंह का बुधवार को कोलार रोड...
- Advertisement -

ज़रूर पढ़े

इंदौर: नाबालिग को हुआ पंजाब के लड़के से प्रेम, पबजी खेल से हुई थी दोनों की जान- पहचान, पहुँच गयी पंजाब उससे मिलने

परिजनों की गुमशुदगी की शिकायत पर; पुलिस ने कॉल डिटेल निकाली तो दस दिन बाद आरोपी और लड़की को इंदौर ले आई।...

सिंधिया: किसने क्या किया- क्या नहीं किया, कांग्रेस को खुद नहीं पता अपने नेताओं के बारे में

कांग्रेस खुद ही नहीं जानती कि उनके नेता ने क्या किया और क्या नहीं. कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होने वाले ज्योतिरादित्य...

Related news

बचहा गांव के आदिवासी युवक ने जिले को किया गौरवान्वित

अहमदाबाद में आयोजित कार्यक्रम में बघेली कला में TAMAS GLOBAL AWARD से किया गया सम्मनित कार्यक्रम में मुख्य अतिथि...

शो फीस बनी नगर में लगाई गई स्टेट लाइट लाखों रुपए चढ़ गए भ्रष्टाचार की भेंट आज तक नहीं किया नगर के मुख्य मार्ग...

राष्ट्र आजकल/ खुशहाल जोशी /तलेनगारंटी समाप्त होने को आई परंतु आज तक नहीं जली नगर की स्टेट लाइट कई...

सद्गुरू प्रमोद गुरू बाला पीर साहेब का मनाया प्राकट्य उत्सव धूमधाम से कबीरपंथीयों ने निकाली शोभायात्रा

राष्ट्र आजकल/ हीरा सिंह उईके/ मंडला। गुरूवार को पंथ श्री हुजूर सद्गुरू प्रमोद गुरू बाला पीर साहेब, नवयुवक युवक मंडल महंतवाड़ा...

सरकार ने करीब 6 लाख मोबाइल नंबर को बंद करने का दिया आदेश

राष्ट्र आजकल प्रतिनिधि | देश के सभी मोबाइल यूजर्स के लिए बड़ी खबर है। सरकार ने करीब 6 लाख मोबाइल नंबर को...
- Advertisement -

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here